• micro-blog
  • WechatWechat QR code

गुआनडोंग प्रांतिय लोक्स सरकार का होम पृष्ठ  >  News trends  >  Guangdong highlights

ऑनलाइन स्लॉट echtgeld पेपैल

स्रोत: Nanfang Daily Online Edition     time: 2021-10-27 09:03:34

गरेना फ्री फायर नेम ऑनलाइन स्लॉट echtgeld पेपैल betway मैच आज,लियोवेगास लाठी,lovebet 777,lovebet जुएगो डे ला राणा,lovebet यूटबेटालेन,365 यूआरएल,बैकरेट बिलिंग,बैकरेट रेडर्स,पांच टेबल टेनिस ब्लेड में से सर्वश्रेष्ठ,लवबेट पर जमा नहीं कर सकते,कैसीनो ऑनलाइन गेम,शतरंज के नियम हिंदी में,क्रिकेट की तारीख 2021,दा शतरंज के बोल,यूरोपीय कप फुटबॉल स्कोर,फ़ेसबुक पर फ़ुटबॉल इमोजी,जुआ कौशल काले और लाल रूले,खुश किसान वायोला,इंडीबेट क्रिकेट बुक,जैकपॉट गेम एमएल परिणाम 03,नवीनतम मकाऊ नक्शा,लाइव रूले कैसीनो ऐप,मेरे पास लॉटरी कार्यालय,एमएस विजेता,ऑनलाइन कैसीनो गोवा,ऑनलाइन हायर स्लॉट्स zdarma,ऑनलाइन स्लॉट ब्रिटेन कैसीनो,पोकर 9 अधिकतम रणनीति,पोकरस्टार्स,रूले वीडियो गेम मुफ्त,रम्मी किंग APK,सीरी सी लवबेट,स्लॉट्स ओ क्यू é,स्पोर्ट्स यू 19 वर्ल्ड कप,तीन पत्ती असली नकद APK,सबसे प्रसिद्ध ऑनलाइन जुआ साइट,आभासी वास्तविकता क्रिकेट बल्ला,विश्व सट्टेबाज रैंकिंग,अरुणाचल प्रदेश lottery.com,कैटरीना जोक्स,खेलो पर जुआ bedap,जोकर घोस्ट,पोकर है,बेटा ईसाई सीरियल,लकी रमी गेम,स्टेटस लाइन इन हिंदी, ,सरसों, सोयाबीन, सीपीओ और पामोलीन में सुधार

  


  

सरसों, सोयाबीन, सीपीओ और पामोलीन में सुधार

  सरसों, सोयाबीन, सीपीओ और पामोलीन में सुधार

नयी दिल्ली, 26 अक्टूबर (भाषा) विदेशी बाजारों में तेजी के रुख से दिल्ली मंडी में मंगलवार को सरसों, सोयाबीन, सीपीओ और पामोलीन तेल- तिलहन के भाव में मजबूती रही जबकि अधिक फसल के बीच ऊंचे भाव के कारण मांग कमजोर होने से मूंगफली तेल-तिलहन और बिनौला तेल के भाव में गिरावट आई। बाकी भाव पूर्ववत बने रहे।

बाजार सूत्रों ने कहा कि मलेशिया एक्सचेंज में 0.85 प्रतिशत की तेजी थी जबकि शिकॉगो एक्सचेंज 0.2 प्रतिशत तेज है। उन्होंने कहा कि त्योहारी मांग होने और स्टॉक की कमी के कारण सरसों तेल-तिलहन में सुधार है जबकि सस्ता बैठने के कारण आम लोगों में विशेषकर गरीब लोग सरसों की जगह सोयाबीन और पाम तेल का इस्तेमाल कर रहे हैं। इसके साथ त्योहारी मांग की वजह से सोयाबीन तेल-तिलहन तथा सीपीओ और पामोलीन तेल कीमतों में सुधार आया। दूसरी ओर मंडियों में मूंगफली की नयी फसल की आवक बढ़ने तथा ऊंचे भाव पर मांग कमजोर होने से मूंगफली और बिनौला के भाव में गिरावट आई।

केन्द्र ने राज्य सरकारों से खाद्य तेलों की बाजार में उपलब्धता बढ़ाने के लिए ‘स्टॉक लिमिट’ (स्टॉक रखने की निश्चित सीमा) तय करने को कहा है। सूत्रों ने कहा कि राज्य सरकारों को इसके दायरे से मूंगफली और सोयाबीन को बाहर रखना चाहिये क्योंकि इससे मंडियों में नयी फसल लाने वाले किसानों को भारी नुकसान होगा।

सूत्रों ने कहा कि इस ‘स्टॉक लिमिट’ का हवाला देते हुए बड़े व्यापारी किसानों को अपनी उपज सस्ते में बेचने को मजबूर करेंगे जिन्हें अगली फसल की बुवाई के लिए जल्द से जल्द पैसे की जरुरत होती है। इन फसलों को किसानों के ही नाम से भंडारगृहों में रखा जायेगा क्योंकि किसानों पर यह ‘स्टॉक लिमिट’ लागू नहीं होती तथा कीमत बढ़ने पर बड़े व्यापारियों के लिए इसी स्टॉक से मुनाफे का द्वारा खुलने लगेगा।

उन्होंने कहा कि असली समस्या सोयाबीन डीगम और सीपीओ, पामोलीन, सूरजमुखी जैसे आयातित तेलों के प्रबंधन की है। सरकार को यह निगरानी रखनी होगी कि बड़ी कंपनियां इसे किस भाव से खरीद रही हैं और किस भाव पर बाजार में बेच रही हैं। यह भी निगरानी करने की जरुरत है कि आयात शुल्क में छूट का बराबर का लाभ उपभोक्ताओं को दिया जा रहा है अथवा नहीं। यह समस्या की जड़ है कि बड़ी कंपनियों के खरीद बिक्री के भाव को निगरानी की जाये, सरकार को तेल की कीमतों को सस्ता करने की कुंजी यहीं से प्राप्त होगी।

उन्होंने कहा कि स्टॉक लिमिट के दायरे से मूंगफली और सोयाबीन को अलग रखना इसलिए भी जरुरी है क्योंकि इन फसलों केी मंडियों में आवक हो रही है और स्टॉक लिमिट का हवाला देकर भाव तोड़ा जायेगा। उन्होंने कहा कि ‘स्टॉक लिमिट’ आयातित तेलों (सोयाबीन, पामोलीन, सूरजमुखी) पर लागू नहीं होता और इसे ठीक से प्रबंधित करने की जरूरत है कि बड़ी कंपनियां इसे किस भाव पर खरीद रही हैं और गरीब उपभोक्ताओं के लिए खुदरा दुकानदारों को किस भाव बेच रही हैं।

उन्होंने कहा कि पिछले आठ महीनों में सरसों की लगभग 88 प्रतिशत फसल की पेराई हो चुकी है और बाकी 12 प्रतिशत में कुछ हिस्सा किसानों के पास और बाकी बड़े खेतीहरों के पास है। अगली फसल आने में लगभग चार महीने हैं और बीच में जाड़े की मांग और त्योहारी मांग आने वाली है। सलोनी शम्साबाद में सरसों के भाव 9,100 रुपये से बढ़ाकर 9,250 रुपये क्विंटल कर दिये गये और इसी वजह से सरसों तेल-तिलहन कीमतों में सुधार है। हालांकि ऊंचे भाव होने के कारण इसकी मांग फिलहाल कमजोर है और यह गरीब उपभोक्ताओं की पहुंच से दूर हो गया है। मुंबई की बड़ी कंपनियों ने हरियाणा से 300 टन पक्की घानी तेल खरीदा है। उन्होंने कहा कि इस बार सरसों की उपलब्धता कम होने से सरसों खली की मांग है जो आगे और बढ़ने की उम्मीद है।

सूत्रों ने कहा कि वास्तव में सारे खर्च और देनदारी के बाद भी सोयाबीन तेल अधिकतम 135-140 रुपये के दायरे में होना चाहिये। इसी प्रकार सूरजमुखी तेल अधिकतम 135-140 रुपये लीटर और मूंगफली तेल अधिकतम 150-160 रुपये लीटर पड़ना चाहिये। लेकिन बड़ी तेल कंपनियां कटौती का महत्तम लाभ उपभोक्ताओं तक नहीं पहुंचा पा रही हैं।

सूत्रों ने कहा कि सरकार को अधिक भाव पर बिक्री कर अनुचित लाभ कमाने वालों की सख्त निगरानी करनी होगी।

बाजार में थोक भाव इस प्रकार रहे- (भाव- रुपये प्रति क्विंटल)

सरसों तिलहन - 8,895 - 8,925 (42 प्रतिशत कंडीशन का भाव) रुपये।

मूंगफली - 6,150 - 6,235 रुपये।

मूंगफली तेल मिल डिलिवरी (गुजरात)- 13,950 रुपये।

मूंगफली साल्वेंट रिफाइंड तेल 2,040 - 2,165 रुपये प्रति टिन।

सरसों तेल दादरी- 17,910 रुपये प्रति क्विंटल।

सरसों पक्की घानी- 2,695 -2,735 रुपये प्रति टिन।

सरसों कच्ची घानी- 2,770 - 2,880 रुपये प्रति टिन।

तिल तेल मिल डिलिवरी - 15,500 - 18,000 रुपये।

सोयाबीन तेल मिल डिलिवरी दिल्ली- 14,050 रुपये।

सोयाबीन मिल डिलिवरी इंदौर- 13,600 रुपये।

सोयाबीन तेल डीगम, कांडला- 12,580

सीपीओ एक्स-कांडला- 11,550 रुपये।

बिनौला मिल डिलिवरी (हरियाणा)- 13,800 रुपये।

पामोलिन आरबीडी, दिल्ली- 13,050 रुपये।

पामोलिन एक्स- कांडला- 11,850 (बिना जीएसटी के)।

सोयाबीन दाना 5,100 - 5,350, सोयाबीन लूज 4,950 - 5,050 रुपये।

मक्का खल (सरिस्का) 3,825 रुपये।

(This story has not been edited by economictimes.com and is auto–generated from a syndicated feed we subscribe to.)
(This story has not been edited by economictimes.com and is auto–generated from a syndicated feed we subscribe to.)

ETPrime stories of the day

As airlines inch back to normalcy, vacant middle seats are a cause of worry
Recent hit

As airlines inch back to normalcy, vacant middle seats are a cause of worry

11 mins read
Skill or chance? The USD7 billion question that can make or break India’s online gaming industry.
Policy and regulations

Skill or chance? The USD7 billion question that can make or break India’s online gaming industry.

13 mins read
Partying the Nolo way: New-age brands are offering choices beyond Pepsi and Coca-Cola
FMCG

Partying the Nolo way: New-age brands are offering choices beyond Pepsi and Coca-Cola

10 mins read

मिलों ने 2021-22 सत्र में अबतक 18 लाख टन चीनी निर्यात के लिए अनुबंध किए : सरकार

सक्रिय रूप से मैनेज किए जाने वाले लार्ज कैप म्‍यूचुअल फंड के तौर-तरीकों का पिछले कुछ सालों में सभी को पता लग गया है. कुछ को छोड़ ज्यादातर स्कीमों ने प्रमुख सूचकांकों से कमतर प्रदर्शन किया है.भारतीय नियामकों का ऐसी करेंसी को लेकर रुख स्पष्ट नहीं है. उन्‍होंने साफ-साफ कुछ भी नहीं कहा है कि भारतीय इनमें ट्रेड करें या नहीं.कोटक महिंद्रा एएमसी को अपीलीय न्यायाधिकरण से राहत

(अदिति खन्ना) लंदन, 26 अक्टूबर (भाषा) भारत पिछले पांच वर्षों में जलवायु प्रौद्योगिकी निवेश के मामले में शीर्ष 10 देशों की सूची में नौवें स्थान पर है। भारतीय जलवायु प्रौद्योगिकी कंपनियों ने 2016 से 2021 तक उद्यम पूंजी (वीसी) निवेश के रूप में एक अरब डॉलर प्राप्त किए हैं। मंगलवार को लंदन में जारी एक नयी रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई। ‘‘लंदन एंड पार्टनर्स और डीलरूम.सीओ’’ द्वारा तैयार की गई रिपोर्ट 'पांच साल: पेरिस समझौते के बाद से वैश्विक जलवायु प्रौद्योगिकी निवेश के रुझान', में पेरिस में पिछले संयुक्त राष्ट्रनिवेशकों के सोने का आकर्षण बढ़ा है. वित्त वर्ष 2020-21 में गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स (ईटीएफ) में निवेशकों ने 6,900 करोड़ रुपये डाले.बीते वित्त वर्ष में सैमसंग इंडिया का शुद्ध लाभ 39 प्रतिशत बढ़ा, आय स्थिर

बाजार नियामक सेबी ने एक्सपेंस रेशियो की सीमा तय की हुई है. ओपन एंडेड इक्विटी स्कीम के एयूएम के आधार पर सेबी ने विभिन्न स्‍लैब बनाए हैं.मुंबई, 26 अक्टूबर (भाषा) रिजर्व बैंक ने मंगलवार को कहा कि उसने महाराष्ट्र के वसई विकास सहकारी बैंक पर कुछ निर्देशों का पालन नहीं करने पर 90 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है। इनमें ऋणों का डूबे कर्ज (एनपीए) के रूप में वर्गीकरण करना और अन्य निर्देश शामिल हैं। केंद्रीय बैंक ने एक बयान में कहा कि बैंक ने उधार खातों में धन का अंतिम उपयोग सुनिश्चित करने और गैर-निष्पादित परिसंपत्तियों के रूप में ऋण के वर्गीकरण के उसके निर्देशों का पालन नहीं किया है। बैंक ने आरबीआई के उस विशेष निर्देश का‘कोयला संकट से 5,000 से अधिक लघु एवं मझोले उद्यमों को भारी नुकसान का अंदेशा’



Relevant reports:स्लॉट मशीन एकाधिकार
Relevant reports:lovebet 2nd प्लेस रिफंड
Relevant reports:लाइव कैसीनो निर्देश
Relevant reports:कैसीनो वीडियो गेम
Relevant reports:परिमच लाइव कैसीनो
Relevant reports:एस्पोर्ट्स लाइव
Relevant reports:टेक्सास होल्डम हाथ पोकर
Relevant reports:लाइव लाठी ऑनलाइन
Relevant reports:रम्मीकल्चर मॉडल का नाम
Relevant reports:ऑनलाइन कैसीनो के खेल
Relevant reports:कौन सा मनोरंजन मंच अधिक ईमानदार है
Relevant reports:fun88 वैप
Relevant reports:ऑनलाइन कैसीनो मुफ्त खेल
Relevant reports:लॉटरी कैसे जीते
Relevant reports:जंगल रम्मी जोन
Relevant reports:ऑनलाइन कैसीनो युक्तियाँ
Relevant reports:lovebet आर हिल ग्लास
Relevant reports:बैकारेट यूट्यूब
Relevant reports:मॉरीशस में लॉटरी के नतीजे आज
Relevant reports:दाफा पोकर ऑनलाइन
Relevant reports:जिन रम्मी में बिंदु मूल्य
Relevant reports:रम्मीकल्चर एपीके डाउनलोड
Relevant reports:शाही चमेली
Relevant reports:lovebet वीआईपी
Relevant reports:फ्लोरिडा में स्पोर्ट्सबुक
Relevant reports:lovebet नंबर गेम
Relevant reports:रम्मी जिंगप्ले APK

【font:large in Small
प्रतिलिपि अधिकार: दक्षिण न्यूज नेटवर्कगुआनडोंग आईसीपी तैयार 05070829 website identification code 4400000131
Sponsor: नान्फांग न्यूज़र नेटवर्क co sponsor: Guangdong Provincial Economic and Information Technology Commission contractor: Nanfang news network
1024 is recommended × Browser with 768 resolution above IE7.0