फुटबॉल चालीसा

फुटबॉल चालीसा

time:2021-10-17 21:05:49 कोरोना के दौर में सैलरी बढ़ाने के लिए कैसे करें बातचीत? Views:4591

क्रिकेट आर सी बी फुटबॉल चालीसा 10cric रेटिंग,casumo फिनलैंड,लेवेगास समीक्षा,lovebet कैसीनो ऐप,lovebet नाइजीरिया,lovebet ज़हलुंग्समेथोडेन,अपोलो गेम्स जैकपॉट गोल्ड,बैकारेट फॉर्मूला नहीं करता है,बैकारेट अल्टीमो रिव्यू,भारत में सट्टेबाजी के राजा,कैसीनो या मैरोको,कैसीनो हाथापाई शब्द,क्लासिक रम्मी रेगलर,क्रिकेट के,ई स्पोर्ट्स लोगो,यूरोपीय प्रारंभिक जर्मन कार्यक्रम,फुटबॉल ओ लाइन पोजीशन,उत्पत्ति कैसीनो भुगतान समय,एक रम्मी कितने अंक का होता है,आईपीएल लाइव स्कोर 2021 आज,जैकपॉट यूआईबी 4869,लाइव लाठी सिम्युलेटर,लांग प्ले बैकरेट हारना चाहिए,कुंडली में लॉटरी योग,एनबीए सट्टेबाजी का अनुभव,ऑनलाइन कैसीनो वूर्डीलकैसीनो,ऑनलाइन पोकर सिर्फ मनोरंजन के लिए,परिमच गुंसेल गिरी,पोकर आई फोन,सर्वश्रेष्ठ ऑनलाइन सट्टेबाजों की रैंकिंग,8 . से विभाज्यता का नियम,भारत में रम्मी वेरिएंट,स्लॉट मशीन जैमर,स्पोर्ट्स 52 वियर रिव्यू,स्पोर्ट्सबुक आयोवा,टेक्सास होल्डम लास वेगास,शीर्ष दस फ़ुटबॉल सट्टेबाजी साइटें,वर्चुअल क्रिकेट मैच क्या है,एक्सएफएल स्पोर्ट्सबुक,उदास स्टेटस इन हिंदी,क्रिकेट academy near me,गोवा गवर्नर,डिलीट in english,फुटबॉल सीखने का तरीका,बेटा ला चीरे अारा मा,लॉटरी धनबाद,हॉकी ब्रेकथ्रू डीलक्स संस्करण .कोरोना के दौर में सैलरी बढ़ाने के लिए कैसे करें बातचीत?

सैलरी बढ़ाने के लिए बातचीत करना यूं भी आसान नहीं होता है. मौजूदा स्थितियों में तो यह काम और भी मुश्किल हो गया है.
सैलरी बढ़ाने के लिए बातचीत करना यूं भी आसान नहीं होता है. फिर चाहे आप अपनी कंपनी में मौजूदा बॉस से चर्चा कर रहे हों या फिर नई जॉब ऑफर के लिए वहां के प्रबंधन से. इस दौरान तनाव रहता ही है. मौजूदा स्थितियों में जब कोरोना की महामारी के कारण काफी लोगों को सैलरी में कटौती और नौकरी गंवाने तक का सामना करना पड़ा है तो यह काम और भी मुश्किल हो गया है. आपको अगर इन स्थितियों का सामना नहीं करना पड़ा है. लेकिन, अपनी मौजूदा सैलरी में बढ़ोतरी या ज्‍यादा पैसे वाली नौकरी चाहते हैं, तो यह संभव है. इसके लिए आपको कुछ चीजें करनी होंगी. आइए, यहां उनके बारे में जानते हैं.

डेटा रखें तैयार
सबसे पहले आपको पूरे साल के दौरान किए गए कॉन्ट्रिब्‍यूशन को लिख लेना चाहिए. ये कॉन्ट्रिब्‍यूशन आपके कार्यक्षेत्र के अनुसार हो सकते हैं. मसलन, आपने सेल्‍स टारगेट पूरे किए हों, महत्‍वपूर्ण प्रोजेक्‍ट सफलता से निपटाया हो, अतिरिक्‍त जिम्‍मेदारी ली हो या कंपनी की कॉस्‍ट में अंतर पैदा किया हो इत्‍यादि. यह आपको सैलरी बढ़ाने के लिए अपना पक्ष रखने में मदद करेगा. आप बॉस के सामने साल का पूरा ब्‍योरा रख पाएंगे. इस तरह उनका फैसला हाल की घटनाओं पर निर्भर नहीं करेगा.

इसे भी पढ़ें : सिर्फ 10% कर्मचारी ऑफिस लौटे : रिपोर्ट

मार्केट में अपनी वैल्‍यू जान लें
आपको अपनी स्किल्‍स का पैसा मिलता है. इस बात का पता करें कि आप जैसी स्किल रखने वाले लोगों को बाहर कितनी सैलरी मिल रही है. आपके अनुभव और स्किल्‍स से जुड़ी कितनी जॉब हैं. रिक्रूटमेंट कंसल्‍टेंट क्‍या आपको कॉल करते हैं और वे कितनी सैलरी ऑफर करते हैं.

कंपनी की जरूरत जानें
कोरोना के दौर में कंपनी की जरूरतों में बदलाव हुआ है. मुमकिन है कि जिस काम में आप बहुत अच्‍छे हों, उसमें कंपनी को लोगों की बहुत जरूरत न हो या उसमें काम घटा हो. देख लें कि आप कोर टीम का हिस्‍सा हैं या आपके बगैर ऑपरेशन चल सकते हैं.

तनाव कम करें
सैलरी पर बातचीत की जरूरत अमूमन साल में एक बार या फिर नौकरी बदलते वक्‍त पड़ती है. इस दौरान अगर आप तनाव में नहीं आते हैं तो अच्‍छा है. पर, ऐसा होता है तो अभ्‍यास जरूरी है. इसके लिए दोस्‍तों या परिवार के सदस्‍यों की मदद ले सकते हैं. अपने काम और जो सैलरी चाहते हैं, उस पर जब आप बार-बार बात करेंगे तो वास्‍तविक स्थिति आने पर तनाव कम रहेगा.

इसे भी पढ़ें : क्‍या आप एमबीए करना चाहते हैं? ये 6 बातें करेंगी आपकी मदद

सही समय चुनें
सैलरी बढ़ाने के लिए बॉस से बात करने का समय बेहद अहमियत रखता है. उस दिन ऐसी बात करना ठीक नहीं होगा जिस दिन उन्‍होंने लागत घटाने के लिए कुछ लोगों को बाहर किया हो या किसी प्रोजेक्‍ट को पूरा करने की डेडलाइन पास हो. अच्‍छा होगा कि ऐसी बातचीत टेलीफोन कॉल के बजाय आमने-सामने हो.

कमीशन और बोनस हैं ऑप्‍शन
सिर्फ वेतनवृद्धि विकल्‍प नहीं है. आप जितनी बढ़ोतरी चाहते हों, शायद कोई कंपनी उसका दोगुना देने के लिए तैयार हो सकती है. लेकिन, वह ईसॉप्‍स, बोनस या कमीशन के रूप में हो. उस स्थिति में पूछ लेना चाहिए कि ये कैसे काम करेंगे और इनका फायदा आप कैसे उठा पाएंगे.

पैसे के अलावा यह है विकल्‍प
अगर वेतन में बढ़ोतरी संभव नहीं है तो आप ऐसे दूसरे बेनिफिट देने के लिए कह सकते हैं जो आपके लिए मायने रखते हैं. इन पर कंपनी और आपकी सहमति होनी चाहिए. मसलन, आप बच्‍चे को स्‍कूल छोड़ने के लिए ऑफिस टाइमिंग को आधे घंटे शिफ्ट कराना चाहते हों. कोई अलग भूमिका चाहते हों या नए प्रोजेक्‍ट पर काम करने के इच्‍छुक हों.

(लेखक कर‍ियर कोच और मेंटर हैं.)

हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.
(Disclaimer: The opinions expressed in this column are that of the writer. The facts and opinions expressed here do not reflect the views of www.economictimes.com.)

टॉपिक

सैलरी बढ़ाने के लिए कैसे करें बातचीतकॉन्ट्रिब्‍यूशनडेटा रखें तैयारकाेराेना की महामारीवेतनवृद्धिरिक्रूटमेंट कंसल्‍टेंट

ETPrime stories of the day

PrimeTalk invite | Blurring the lines of retail.
Modern retail

PrimeTalk invite | Blurring the lines of retail.

2 mins read
Rooms and reservations: what Oyo’s DRHP tells and does not tell us about its business
Markets

Rooms and reservations: what Oyo’s DRHP tells and does not tell us about its business

8 mins read
Still taxiing: Akasa Air, Jet Airways continue to wait for green signal. When will they take off?
Aviation

Still taxiing: Akasa Air, Jet Airways continue to wait for green signal. When will they take off?

15 mins read

उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र के विभिन्न फॉर्मेट में चुनौतियों और अड़चनों को दूर करने के लिए सीआईआई के तहत खुदरा सेक्‍टर के लोगों का मानना है कि सरकार को एक मजबूत रिटेल पॉलिसी लानी चाहिए.पिछले 10 साल में ओएनजीसी अपने उत्पादन में कोई बड़ी बढ़ोतरी करने में नाकामयाब रही है.मनी मार्केट म्यूचुअल फंडों के बारे में ये 5 बातें जान लें, होगा फायदा

विशेषज्ञों का कहना है कि औद्योगिक कमोडिटीज में निवेश से सोने के मुकाबले बढ़िया रिटर्न मिल सकता हैदिग्गज आईटी कंपनी टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज ने कोरोना वायरस महामारी के दौरान ग्रोथ देने के चलते साल 2021-22 के लिए कर्मचारियों की सैरली बढ़ाई है.कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में दिहाड़ी मजदूरी बढ़ी, यह है वजह

साल में कम से कम एक निवेश की समीक्षा जरूर करें और दोबारा संतुलन बनाएं. अपने लिए पर्याप्‍त लाइफ इंश्‍योरेंस खरीदें.साल में कम से कम एक बार निवेश की समीक्षा जरूर करें और उसे दोबारा बैलेंस करें.अगर आपके पास ये स्किल्‍स हैं तो नौकरी की नहीं है कमी

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
नया बोर्ड गेम क्या है

इंडेक्‍स फंडों की तरह ईटीएफ अमूमन किसी खास मार्केट इंडेक्स को ट्रैक करते हैं. इनका प्रदर्शन उस इंडेक्‍स जैसा होता है.

betway hindi meaning

अपने साथ की प्रतिद्वंद्वी कंपनियों के मुकाबले डॉ रेड्डीज लैब का वैल्यूएशन कम है. साथ ही बैलेंसशीट भी मजबूत है.

मुफ्त पंजीकरण बोनस के साथ बेटिंग साइट

एक साल पहले इस फंड के अनुभवी मैनेजर ने इस्तीफा दिया. हालांकि, स्‍कीम की बागडोर मजबूत प्रबंधन के हाथों में है. निवेश के तरीके में कोई बड़ा बदलाव नहीं हुआ है.

स्टेटस अपडेट

इंडेक्‍स फंडों की तरह ईटीएफ अमूमन किसी खास मार्केट इंडेक्स को ट्रैक करते हैं. इनका प्रदर्शन उस इंडेक्‍स जैसा होता है.

बैकरेट खेल खेलने का कौशल

बेहतर और सरल रिटर्न के लिए निवेशक साधारण प्रोडक्ट्स का रुख कर रहे हैं. सरकार ने अप्रैल-जून तिमाही में ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया है.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी