आप रम्मी गेम

आप रम्मी गेम

time:2021-10-17 21:08:02 बेटी की उम्र 8 साल है, सुकन्या समृद्धि और पीपीएफ में से किसमें निवेश करना फायदेमंद? Views:4591

खुश अफ्रीकी किसान आप रम्मी गेम 10cric वीडियो,casumo हॉटलाइन,लियोवेगास ट्रस्टपायलट,lovebet क्रना गोरा,lovebet ओडर टिपिको,lovebet और 788-sb.com,क्या कोई लाभदायक बोर्ड गेम हैं,बैकरेट जुआ वेबसाइट संग्रह,बैकरेट वेब गेम,सट्टेबाजी का पैसा,कैसीनो बॉट कलह,कैसीनो वॉलपेपर,क्लासिक रम्मी निकासी नियम,क्रिकेट लाइव स्कोर भारत,एफ़ुटबॉल,च फुटबॉल भविष्यवाणी,फुटबॉल ओवरटाइम,उत्पत्ति कैसीनो निलंबन,ऑनलाइन फ़ुटबॉल सट्टेबाजी के एकल मैच पर बेट कैसे लगाएं,आईपीएल फोटो,जैकपॉट विकी,लाइव लाठी यूट्यूब,लॉटरी 27/05/21,भाग्य 9 कैसीनो खेल,एनबीए लाइव 8,ऑनलाइन कैसीनो जाम्बिया,ऑनलाइन पोकर मैसाचुसेट्स,परिमच जेटेक्स,पोकर युद्ध लिवर है,असली पैसा जमींदार से लड़ता है,शासन कशा,रम्मी वेगास APK,स्लॉट मशीन लोकेटर,खेल 88 dfw,स्पोर्ट्सबुक लीगल स्टेट्स,टेक्सास होल्डम कोई सीमा नहीं,टीआर क्रिकेट एपीके डाउनलोड,अधिक मजेदार और निष्पक्ष ऑनलाइन कैसीनो कहां हैं,वाई फुटबॉल खिलाड़ी,एक पत्ती गेम,क्रिकेट gk 2019,गोवा जाने का रास्ता,तारीख लॉटरी रिजल्ट,बकरा इंग्लिश,बेटा ही चाहिए सीरियल,लॉटरी भाग लक्ष्मी, .बेटी की उम्र 8 साल है, सुकन्या समृद्धि और पीपीएफ में से किसमें निवेश करना फायदेमंद?

सुकन्‍या समृद्धि योजना बेटियों के लिए सरकार की लोकप्रिय स्‍कीम है.
कविता मानती हैं कि निवेश का फैसला काफी जांच-परख के बाद ही करना चाहिए. इसके लिए सभी उपलब्ध विकल्पों की समीक्षा जरूरी है. लिहाजा, 8 साल की बेटी के लिए निवेश शुरू करने से पहले वह निवेश के रिटर्न, ब्‍याज दर, जोखिम, समयावधि जैसी बातों का ख्‍याल रखना चाहती हैं. पूंजी बढ़ाने के लिए सुकन्या समृद्धि योजना (एसएसवाई) और पब्लिक प्रोविडेंट फंड (पीपीएफ) को सबसे सुरक्षित निवेश विकल्प माना जाता है. कविता इन दोनों विकल्पों की तुलना करना चाहती हैं. उन्हें पता है कि दोनों पर सेक्शन 80सी के तहत 1.5 लाख रुपये तक टैक्‍स बेनिफिट उपलब्‍ध है. हालांकि, एसएसवाई पर ब्‍याज दर पीपीएफ की तुलना में अमूमन 0.5 फीसदी ज्यादा होती है. वह सोच में पड़ी हैं कि क्‍या एसएसवाई बेहतर विकल्प है.

सुकन्‍या समृद्धि योजना बेटियों के लिए सरकार की लोकप्रिय स्‍कीम है. इस स्‍कीम में बेटी के जन्‍म के बाद उसके नाम पर खाता खुलवाया जा सकता है. उसके 10 साल का होने तक ऐसा किया जा सकता है. खाता खुलने के बाद से बेटी के 21 साल का पूरा होने पर अकाउंट मैच्‍योर होता है. मैच्‍योरिटी तक ब्‍याज अर्जित करने के लिए खाता खुलने की तारीख से कविता को बेटी के 15 साल का होने तक हर साल न्‍यूनतम निवेश करने की जरूरत पड़ेगी. लेकिन, एसएसवाई में उनका पूरा पैसो बेटी के 18 साल का होने तक लॉक रहेगा. सच तो यह है कि बेटी के 18 साल का होने के बाद भी कविता निवेश का सिर्फ 50 फीसदी ही निकाल पाएंगी. बाकी की रकम वह तभी निकाल पाएंगी जब वह 21 साल की होगी.

इसे भी पढ़ें : मुझे रिटायरमेंट के लिए 19 साल में ₹1.24 करोड़ जुटाने हैं, कैसे प्लानिंग करूं?

सुकन्‍या समृद्धि योजना में अक्‍सर ब्‍याज की दर ज्‍यादा होती है. इसका कारण है कि यह स्‍कीम कविता जैसे माता-पिता को बेटी के भविष्‍य के लिए पैसा जुटाने को प्रोत्‍साहित करने के लिए है. हालांकि, डिपॉजिट बेटी के 15 साल का होने तक किया जा सकता है. 16वें साल से 21वें साल के बीच किसी डिपॉजिट की अनुमति नहीं है. हालांकि, अकाउंट पर ब्‍याज 21 साल तक मिलना जारी रहता है. लिहाजा, पैसे को लॉक होने के बावजूद 15 साल से आगे निवेश पर बंदिश है. यह पूंजी के जुटने की क्षमता पर रोक लगाता है.

दूसरी ओर पीपीएफ कविता को निवेश की अवधि पर बंदिशों के बगैर टैक्‍स-फ्री इंटरेस्‍ट अर्जित करने की सहूलियत देता है. इसमें लॉक-इन अवधि छोटी है और लंबी अवधि तक निवेश किया जा सकता है. पीपीएफ के ये फीचर कंपाउंडिंग अवधि के मामले में एसएसवाई जैसे ब्‍याज देने वाले प्रोडक्‍टों के फायदे को न्‍यूट्रलाइज करते हैं.

इसे भी पढ़ें : कैसा है फ्रैंकलिन इंडिया इक्विटी एडवांटेज फंड का 5 साल का रिपोर्ट कार्ड?

लिहाजा, कविता के निवेश का फैसला ज्‍यादा ब्‍याज दर से ही प्रभावित नहीं होना चाहिए. उनके पास सुकन्‍या समृद्धि में निवेश के लिए अपेक्षाकृत कम समय (7 साल) है. यह शायद उन्‍हें कंपाउंडिंग का उतना ज्‍यादा फायदा न लेने दे. कविता की बेटी की उम्र अगर और कम होती तो एसएसवाई वाकई शानदार विकल्‍प था. यह उन्‍हें स्‍कीम में निवेश के लिए ज्‍यादा समय देता. उस स्थिति में वह पीपीएफ की तुलना में ज्‍यादा पैसा जुटा पातीं.

इस पेज की सामग्री सेंटर फॉर इंवेस्टमेंट एजुकेशन एंड लर्निंग (सीआईईएल) के सौजन्य से. गिरिजा गादरे, आरती भार्गव और लब्धि मेहता का योगदान.

पैसे कमाने, बचाने और बढ़ाने के साथ निवेश के मौकों के बारे में जानकारी पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज पर जाएं. फेसबुक पेज पर जाने के लिए यहां क्‍ल‍िक करें
(Disclaimer: The opinions expressed in this column are that of the writer. The facts and opinions expressed here do not reflect the views of www.economictimes.com.)

टॉपिक

Sukanya Samriddhi Yojanaसुकन्‍या समृद्ध‍ि योजनान‍िवेशबेटी के लिए बचतटैक्‍स बेनिफिटपीपीएफ

ETPrime stories of the day

As cryptocurrency bull run gets investors’ attention, smart scams, FOMO and greed are out to get you
Cryptocurrency

As cryptocurrency bull run gets investors’ attention, smart scams, FOMO and greed are out to get you

15 mins read
Ritesh Agarwal has steered Oyo from chaos to clarity. Is that enough to pull off a successful IPO?
Markets

Ritesh Agarwal has steered Oyo from chaos to clarity. Is that enough to pull off a successful IPO?

8 mins read
People vs. banks: Will the common man benefit as the transparency fight enters the last leg?
Banking

People vs. banks: Will the common man benefit as the transparency fight enters the last leg?

12 mins read

पिछले साल से अब तक बड़े उतार-चढ़ाव हुए हैं. लोगों ने कोरोना की महामारी के कहर को देखा और अब जिंदगी को पटरी पर लौटते देख रहे हैं. शायद ही यह दौर भुलाए भूलेगा. हालांकि, इससे कई सबक भी मिले हैं. ये करियर में आगे बढ़ने में मदद कर सकते हैं. आइए, यहां उनके बारे में जानते हैं.विशेषज्ञों का कहना है कि औद्योगिक कमोडिटीज में निवेश से सोने के मुकाबले बढ़िया रिटर्न मिल सकता हैसुकन्‍या समृद्धि योजना के बारे में जानिए अपने हर सवाल का जवाब

आईबीए ने बैंक कर्मचारी और अधिकारी संघों के साथ 11वीं द्विपक्षीय वेतनवृद्धि वार्ता नई सहमति के साथ सम्पन्न होने की बुधवार को घोषणा की.दिग्गज आईटी कंपनी टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज ने कोरोना वायरस महामारी के दौरान ग्रोथ देने के चलते साल 2021-22 के लिए कर्मचारियों की सैरली बढ़ाई है.क्‍या आपको फंड ऑफ फंड्स में निवेश करना चाहिए?

बेहतर और सरल रिटर्न के लिए निवेशक साधारण प्रोडक्ट्स का रुख कर रहे हैं. सरकार ने अप्रैल-जून तिमाही में ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया है.इंडेक्‍स फंडों की तरह ईटीएफ अमूमन किसी खास मार्केट इंडेक्स को ट्रैक करते हैं. इनका प्रदर्शन उस इंडेक्‍स जैसा होता है.अगर आपके पास ये स्किल्‍स हैं तो नौकरी की नहीं है कमी

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
कैसीनो मैं हैम्बर्ग

नौकरी जॉबस्पीक्स इंडेक्स की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, डिजिटल बदलाव की लहर में सूचना प्रौद्योगिकी-सॉफ्टवेयर क्षेत्र लगातार इससे बचा हुआ है.

बेटिंग आर्केड को कैसे क्रैक करें

भारतीय शहरों में करीब 15 फीसदी कंपनियों की फरवरी से अप्रैल 2021 के बीच फ्रेशर्स को भर्ती करने की योजना है. लर्निंग सॉल्‍यूशंस फर्म टीम लीज एडटेक के सर्वे से इसका पता चलता है. टीमलीज एडटेक के सीईओ शांतनु रूज ने कहा कि कोरोना की महामारी के बावजूद कंपनियों के एजेंडे में फ्रेशर्स की हायरिंग है.

शतरंज की चाल जीत

डेट म्‍यूचुअल फंडों की कई कैटेगरी हैं. मनी मार्केट म्‍यूचुअल फंड उनमें से एक है. ये स्‍कीमें उन लोगों के लिए मुफीद होती हैं जो अपने निवेश के साथ बहुत कम जोखिम लेना चाहते हैं. चूंकि ये स्‍कीमें छोटी अवधि के इंस्‍ट्रूमेंट में पैसा लगाती हैं. इसलिए इन पर अर्थव्‍यवस्‍था में ब्‍याज दर में होने वाले बदलाव का ज्‍यादा असर नहीं पड़ता है. मनी मार्केट इंस्‍ट्रूमेंट के साथ कम जोखिम होने के कारण भी इनमें निवेश अपेक्षाकृत सुरक्षित होता है. आइए, यहां इनके बारे में कुछ जरूरी बातों को जानते हैं.

lovebet 96 ऐप

अपने साथ की प्रतिद्वंद्वी कंपनियों के मुकाबले डॉ रेड्डीज लैब का वैल्यूएशन कम है. साथ ही बैलेंसशीट भी मजबूत है.

बैकरेट ऑनलाइन खेलने के लिए किस वेबसाइट की अच्छी प्रतिष्ठा है

अपने साथ की प्रतिद्वंद्वी कंपनियों के मुकाबले डॉ रेड्डीज लैब का वैल्यूएशन कम है. साथ ही बैलेंसशीट भी मजबूत है.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी