188bet थाईलैंड

188bet थाईलैंड

time:2021-10-27 20:59:06 सिर्फ 10% कर्मचारी ऑफिस लौटे : रिपोर्ट Views:4591

जुआ परीक्षण 188bet थाईलैंड betway बेटिंग ऐप,fun88 भारत में कानूनी है,lovebet 4 अंकों का सुरक्षा कोड भूल गया,lovebet एच हिल एस्टेट एजेंट,lovebet स्ट्रीट टाइघ्स हिल, पोकर चिप्स,बैकारेट खाता मुफ्त खोलना,बैकरेट नकारात्मक चेस 12 केबल,सर्वोत्तम पांच वर्षीय फिक्स्ड रेट मॉर्गेज,बॉन्स यायनकिलिक नैतिक डेनेमेसी 1,कैसीनो जम्मू मेनू,शतरंज 76,क्रिकेट शर्त,क्रिकेट वे एक्टन माँ,एस्पोर्ट्स बनाम रियल स्पोर्ट्स,फुटबॉल समझौता सही स्कोर,मुफ्त ऑनलाइन स्लॉट ज़ीउस 2,शुमान द्वारा खुश किसान,तत्काल बाधा कैसे देखें,आईएसएल फुटबॉल पूर्वावलोकन,के स्लॉट्स ऑफ हॉस्टन ह्यूस्टन tx,लाइव कैसीनो ब्रिटेन,मुंबई में लॉटरी,लूडो असीमित धन,ऑनलाइन बेटिंग ऑफर,ऑनलाइन गेम कोई डाउनलोड नहीं,ऑनलाइन स्लॉट खेल मुफ्त,प्वाइंट रम्मी प्ले,कंक्रीट के लिए पोकर थरथानेवाला,रूले केपुतुसन,रम्मी अड्डा,रम्मीकल्चर टूर्नामेंट,स्लॉट बैटरी चार्जर,खेल मंत्री,किशोर पत्ती बॉस APK,सबसे महान फुटबॉल खिलाड़ी,वीडियो लॉटरी परिणाम,जेनेसिस कैसीनो का मालिक कौन है,cricket मीनिंग इन हिंदी,करीना उदयपुर,क्रिकेट फील्ड पोसिशन्स,चेस बोर्ड इमेज,नई स्टेटस,बरसात देखना सपने में,रमी ट्रिक्स,स्टेटस टॉप, .सिर्फ 10% कर्मचारी ऑफिस लौटे : रिपोर्ट

बेंगलुरु और हैदराबाद में यह आंकड़ा 5 फीसदी से भी कम है. वहीं, मुंबई और दिल्‍ली-एनसीआर में यह संख्‍या 20 फीसदी से ज्‍यादा है.
बेंगलुरु : मार्च में सामान्‍य स्‍तर से नवंबर के अंत तक सिर्फ 10 फीसदी कर्मचारी ऑफिस लौटे थे. वर्कइनसिंक के आंकड़ों से इसका पता चलता है. यह कंपनियों को टेक सॉल्‍यूशन उपलब्‍ध कराती है. बेंगलुरु और हैदराबाद में यह आंकड़ा 5 फीसदी से भी कम है. वहीं, मुंबई और दिल्‍ली-एनसीआर में यह संख्‍या 20 फीसदी से ज्‍यादा है.

फार्मा, आईटी, आईटीईएस और बीपीओ सेक्‍टर के कर्मचारी अधिक रफ्तार से ऑफिस लौट रहे हैं. इनमें यह रेट 16 फीसदी से 27 फीसदी तक है. वहीं, शुद्ध सॉफ्टवेयर प्रोडक्‍ट कंपनियों में यह रेट सिर्फ 3 फीसदी है. इंफोसिस, विप्रो और टीसीएस जैसी कंपनियों में कुल कर्मचारियों में से केवल 5 फीसदी ऑफिस से काम कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ें : क्‍या आप एमबीए करना चाहते हैं? ये 6 बातें करेंगी आपकी मदद

master

महानगरों में यह आंकड़ा 10 फीसदी है. वहीं, बाकी के देश में 20 फीसदी. आंकड़ों से यह भी पता चलता है कि पुरुषों के मुकाबले महिला कर्मचारी ऑफिस लौटने में अधिक तत्‍पर हैं.

इसे भी पढ़ें : कार खरीदने के लिए आसानी से मिलेगा लोन, मारुति सुजुकी ने शुरू की यह नई सुविधा

वर्कइनसिंक के सीईओ दीपेश अग्रवाल ने कहा कि अगले साल मई तक आईटी, आईटीईएस और बीपीओ सेक्‍टर में कर्मचारियों के ऑफिस वापसी का लेवल कोरोना से पहले के स्‍तर के 50 फीसदी तक पहुंच सकता है. वहीं, सितंबर तक इसके 80 फीसदी तक पहुंचने के आसार हैं. सब कुछ काेराेना की वैक्‍सीन आने पर निर्भर करेगा.

उन्‍होंने कहा कि अनलॉक के दूसरे चरण से कर्मचारियों ने ऑफिस लौटना शुरू किया है. लेकिन, जिस तरह से उनकी वापसी हुई है, वह पहले की तुलना में काफी अलग है. अगले कुछ महीनों में ज्‍यादा कर्मचारी ऑफिस से काम करेंगे.

हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.

टॉपिक

ऑफिस वापसीवर्कइनसिंकबेंगलुरुर‍िपोर्टकोरोना वैक्‍सीनहैदराबाद

ETPrime stories of the day

Partying the Nolo way: New-age brands are offering choices beyond Pepsi and Coca-Cola
FMCG

Partying the Nolo way: New-age brands are offering choices beyond Pepsi and Coca-Cola

10 mins read
As airlines inch back to normalcy, vacant middle seats are a cause of worry
Recent hit

As airlines inch back to normalcy, vacant middle seats are a cause of worry

11 mins read
Skill or chance? The USD7 billion question that can make or break India’s online gaming industry.
Policy and regulations

Skill or chance? The USD7 billion question that can make or break India’s online gaming industry.

12 mins read

अगले साल मई तक आईटी, आईटीईएस और बीपीओ सेक्‍टर में कर्मचारियों के ऑफिस वापसी का लेवल कोरोना से पहले के स्‍तर के 50 फीसदी तक पहुंच सकता है.रेलवे बोर्ड के चेयरमैन वीके यादव ने बताया कि कोविड-19 महामारी के कारण अब तक परीक्षा आयोजित नहीं कराई जा सकी थी.अच्‍छे इंक्रीमेंट के लिए अभी दो साल करना पड़ेगा इंतजार : एक्‍सपर्ट्स

कर्मचारियों की छंटनी की खबर ऐसे समय आई जब एक महीने पहले ही हरदयाल प्रसाद ने कंपनी में चीफ एग्‍जीक्‍यूटिव का पद संभाला है. उन्‍होंने अंतरिम प्रमुख नीरज व्‍यास की जगह ली है.नौकरी जॉबस्पीक्स इंडेक्स की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, डिजिटल बदलाव की लहर में सूचना प्रौद्योगिकी-सॉफ्टवेयर क्षेत्र लगातार इससे बचा हुआ है.अच्‍छे इंक्रीमेंट के लिए अभी दो साल करना पड़ेगा इंतजार : एक्‍सपर्ट्स

एओन की बुधवार को जारी सर्वे रिपोर्ट में कहा गया है कि देश में काम करने वाली कंपनियों ने कोविड-19 से जुड़ी चुनौतियों के बावजूद लचीलारुख दिखाया है.रेलवे बोर्ड के चेयरमैन वीके यादव ने बताया कि कोविड-19 महामारी के कारण अब तक परीक्षा आयोजित नहीं कराई जा सकी थी.आईटी और रिटेल सेक्‍टर में मार्च में हुईंं ज्‍यादा भर्तियां : रिपोर्ट

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
पांच नियमों में से सर्वश्रेष्ठ

कोरोना वायरस महामारी के चलते लागू किए गए लॉकडाउन के कारण विभिन्न क्षेत्रों में छंटनी, वेतन में कटौती या कर्मचारियों के वेतन में बढ़ोतरी रुक गई है. हालांकि, कई बड़े निजी क्षेत्र के बैंकों ने कर्मचारियों के वेतन में बढ़ोतरी की है.

कैसीनो यू ब्लिज़िनी

महामारी से पहले की तुलना में मजदूरी 450-500 रुपये से बढ़कर 550-600 रुपये प्रति दिन हो गई है. वहीं, मजदूरों की उपलब्‍धता 70-75 फीसदी घटी है.

ग्लोबल गेमिंग इनसाइक्लोपीडिया

पिछले साल से अब तक बड़े उतार-चढ़ाव हुए हैं. लोगों ने कोरोना की महामारी के कहर को देखा और अब जिंदगी को पटरी पर लौटते देख रहे हैं. शायद ही यह दौर भुलाए भूलेगा. हालांकि, इससे कई सबक भी मिले हैं. ये करियर में आगे बढ़ने में मदद कर सकते हैं. आइए, यहां उनके बारे में जानते हैं.

ऑनलाइन फ़ुटबॉल सट्टेबाजी के एकल मैच पर बेट कैसे लगाएं

अगर आप फुलटाइम घर से काम कर रहे हैं और आपकी कंपनी टेलीफोन, इंटरनेट, प्रिंटिंग और स्‍टेशनरी जैसे कुछ खर्चों को रीइंबर्स कर रही है तो आपको इन खर्चों पर टैक्‍स देने की जरूरत नहीं है.

अंदर बहारी

दिग्गज आईटी कंपनी टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज ने कोरोना वायरस महामारी के दौरान ग्रोथ देने के चलते साल 2021-22 के लिए कर्मचारियों की सैरली बढ़ाई है.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी