बैकरेट नौ केबल

बैकरेट नौ केबल

time:2021-10-17 20:13:57 कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में दिहाड़ी मजदूरी बढ़ी, यह है वजह Views:4591

भारत में सट्टेबाजी की साइटें बैकरेट नौ केबल betway मोबाइल नंबर,लियोवेगास कैसीनो apk,lovebet 80/1,lovebet कन्नड़,०.५ के तहत lovebet अर्थ,500 रम्मी पॉइंट सिस्टम,बैकरेट बोर्ड गेम डाउनलोड,बैकारेट सिफारिशें,बेस्ट ऑफ फाइव्स डेंटिस्ट्री,नकद सट्टेबाजी कंपनी,कैसीनो खोलना,शतरंज टी शर्ट भारत,क्रिकेट डूडल,dafabet वर्चुअल क्रिकेट,यूरोपीय कप फ्रेंच फुटबॉल बेबी,फुटबॉल विशेषज्ञ स्कोर भविष्यवाणी,जुआ परीक्षण,हैप्पी किसान वायलिन ट्यूटोरियल,भारत में indibet कानूनी है,जैकपॉट गेम.एमएल 2 अंक,नवीनतम Wynn उच्च एजेंसी वेबसाइट,लाइव रूले डबलिन,लॉटरी ऑनलाइन गेम,मा लॉटरी परिणाम,ऑनलाइन कैसीनो हैक्स,ऑनलाइन जुआ आईपीएल,ऑनलाइन स्लॉट हमें,पोकर ए 3,pokerstars.com लॉगिन,रूले व्हिस्की,रमी भाग्यशाली,श क्रिकेट बल्ले,स्लॉट्स ऑनलाइन क्यू डाओ माईस दिनहिरो,खेल वर्दी,तीन पत्ती शेर,सबसे लोकप्रिय मंच,आभासी t10 क्रिकेट,विश्व कप सट्टेबाजी साइट,असली पैसे का खेल english translation,कैटरीना धर्मशाला,खेलो पर जुआ from,जोकर जैसी फ़िल्में,पोकरा योजना महाराष्ट्र,बेटा ऋतु,लाटरी इवनिंग रिजल्ट,स्टेटस शायरी attitude, .कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में दिहाड़ी मजदूरी बढ़ी, यह है वजह

कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में न्‍यूनतम मजदूरी में 15-20 फीसदी का इजाफा हुआ है.
मुंबई : पिछले कुछ महीनों में कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में काम करने वाले वर्कर्स की न्‍यूनतम दिहाड़ी मजदूरी बढ़ी है. ये रियल एस्‍टेट, इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर, सीमेंट, स्‍टील, सड़क एवं हाईवे और शहरी विकास परियोजनाओं में काम करते हैं. मजदूरी में बढ़ोतरी की वजह लेबरों की कमी है. कंपनियों ने अपने पुराने प्रोजेक्‍टों को पूरा करने के लिए काम की रफ्तार बढ़ाई है.

कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में न्‍यूनतम मजदूरी में 15-20 फीसदी का इजाफा हुआ है. इस सेक्‍टर में करीब 5 करोड़ लोग काम करते हैं. मानव संसाधन प्रबंधन फर्म बेटरप्‍लेस के अनुमान के अनुसार, महामारी से पहले की तुलना में मजदूरी 450-500 रुपये से बढ़कर 550-600 रुपये प्रति दिन हो गई है. वहीं, मजदूरों की उपलब्‍धता 70-75 फीसदी घटी है.

इसे भी पढ़ें : कोरोना के दौर में सैलरी बढ़ाने के लिए कैसे करें बातचीत?

मजदूरों को सबसे ज्‍यादा रोजगार कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में मिलता है. यह सेक्‍टर काफी कुछ असंगठित है. ज्‍यादातर वर्कर्स दिहाड़ी मजदूरी पर काम करते हैं. बेटरप्‍लेस के सीओओ सौरभ टंडन ने कहा कि लेबर की किल्‍लत के चलते कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में मजदूरी बढ़ी है. कंपन‍ियां तेजी से अपनी लंबित परियोजनाओं को पूरा करना चाहती हैं.

टॉप एग्‍जीक्‍यूटिव्‍ज के अनुसार, कुशल कामगारों की भारी किल्‍लत है. कारण है कि महामारी के बाद बड़ी संख्‍या में मजदूर अपने-अपने घरों से वापस नहीं लौटे हैं. रियल एस्‍टेट डेवलपर हीरानंदानी ग्रुप के एमडी निरंजन हीरानंदानी ने कहा कि हम बाहर से कुशल कारीगरों को लाने की कोशिश कर रहे हैं. ये ज्‍यादा मजदूरी की मांग करते हैं. इससे कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में औसत मजदूरी बढ़ी है. कुशल श्रमिकों की कमी सिर्फ रियल एस्‍टेट की समस्‍या नहीं है, बल्कि यह दिक्‍कत हर सेक्‍टर की है. बहुत कम लोगों के पास काम की कुशलता होती है.

इसे भी पढ़ें : सिर्फ 10% कर्मचारी ऑफिस लौटे : रिपोर्ट

इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर प्रोजेक्‍टों के बिल्‍डर केईसी इंटरनेशनल के सीईओ विमल केजरीवाल ने कहा कि फिटर और कारपेंटर जैसे कुशल कामगारों की मजदूरी 10-20 फीसदी बढ़ गई है. काम ज्‍यादा है. लंबित परियोजनाओं को पूरा करने का दबाव है. सभी साइटों पर पूरी क्षमता के साथ काम हो रहा है.

इंडस्‍ट्री के जानकार कहते हैं कि मध्‍यम और छोटे संस्‍थान जिनमें लॉकडाउन की शुरुआत में वर्कर्स को रोक पाने की क्षमता नहीं थी, उन्‍हें लेबरों को मंगाने में ज्‍यादा खर्च करना पड़ रहा है. कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर की बड़ी कंपनियों ने खाने-पीने और रहने की व्‍यवस्‍था उपलब्‍ध कराकर अपने वर्कर्स को बनाए रखा.

हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.

टॉपिक

द‍िहाड़ी मजदूरीमजदूरी में इजाफान्‍यूनतम द‍िहाड़ीकंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टरलेबरों की किल्‍लत

ETPrime stories of the day

As cryptocurrency bull run gets investors’ attention, smart scams, FOMO and greed are out to get you
Cryptocurrency

As cryptocurrency bull run gets investors’ attention, smart scams, FOMO and greed are out to get you

15 mins read
Ritesh Agarwal has steered Oyo from chaos to clarity. Is that enough to pull off a successful IPO?
Markets

Ritesh Agarwal has steered Oyo from chaos to clarity. Is that enough to pull off a successful IPO?

8 mins read
People vs. banks: Will the common man benefit as the transparency fight enters the last leg?
Banking

People vs. banks: Will the common man benefit as the transparency fight enters the last leg?

12 mins read

एक साल पहले इस फंड के अनुभवी मैनेजर ने इस्तीफा दिया. हालांकि, स्‍कीम की बागडोर मजबूत प्रबंधन के हाथों में है. निवेश के तरीके में कोई बड़ा बदलाव नहीं हुआ है.समय गुजरने के साथ उन्‍हें इक्विटी में निवेश कम कर देना चाहिए. इसके बजाय धीरे-धीरे डेट फंडों की ओर रुख करना चाहिए.नेशनल रिटेल पॉलिसी से 4 साल में पैदा होंगी 30 लाख नौकरियां : सीआईआई

नौकरी जॉबस्पीक्स इंडेक्स की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, डिजिटल बदलाव की लहर में सूचना प्रौद्योगिकी-सॉफ्टवेयर क्षेत्र लगातार इससे बचा हुआ है.पिछले 10 साल में ओएनजीसी अपने उत्पादन में कोई बड़ी बढ़ोतरी करने में नाकामयाब रही है.अगर आपके पास ये स्किल्‍स हैं तो नौकरी की नहीं है कमी

सर्वे में 20 से ज्‍यादा इंडस्‍ट्रीज की 1,200 कंपनियों की प्रतिक्रिया ली गई. इनमें से 1,000 ने इस साल वेतनवृद्धि के लिए कहा है.देश में क्रिप्‍टोकरेंसी को लेकर स्थिति बहुत साफ नहीं है. कर्मचारी और कंपनियां दोनों इसे लेकर टैक्‍स के बारे में चिंतित हैं.बेटी की उम्र 8 साल है, सुकन्या समृद्धि और पीपीएफ में से किसमें निवेश करना फायदेमंद?

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
नवीनतम विश्व कप

सुकन्या समृद्धि स्‍कीम में बेटी के जन्‍म के बाद उसके नाम पर खाता खुलवाया जा सकता है. उसके 10 साल का होने तक ऐसा किया जा सकता है.

पोकर ड्राइंग

विशेषज्ञों का कहना है कि औद्योगिक कमोडिटीज में निवेश से सोने के मुकाबले बढ़िया रिटर्न मिल सकता है

कैसीनो गंतव्यों

सर्वे में 20 से ज्‍यादा इंडस्‍ट्रीज की 1,200 कंपनियों की प्रतिक्रिया ली गई. इनमें से 1,000 ने इस साल वेतनवृद्धि के लिए कहा है.

tr खेल dandenong

आपको अपनी स्किल्‍स का पैसा मिलता है. इस बात का पता करें कि आप जैसी स्किल रखने वाले लोगों को बाहर कितनी सैलरी मिल रही है.

फुटबॉल 90

एनपीएस अकाउंट खोलते वक्त सब्सक्राइबर्स को विकल्प दिया जाता है. वे चाहें तो विभिन्न एसेट क्लास में खुद पैसा लगाएं. या फिर ऑटो च्‍वाइस ऑप्शन चुनें.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी